Monday, May 07, 2007

सेक्स पोजीशन

सेक्स पोजीशन ही सेक्स क्रिया का महत्वर्ण पड़ाव होता है. तमाम प्रयासों का निष्कर्ष इसी पर आकर शुरू होता है. सेक्स पोजीशन की महत्ता प्राचीन काल से ही रही है. इसपर वात्सायन ने भी काफी कुछ दिया है, तो चीन में भी काफी कुछ नया मिला हैपाश्चात्य देशों ने भी इस पर काफी कुछ नया किया है. हिन्दुस्तान में मुगलों ने रति क्रीड़ा के आसनों को एक नया आयाम और रूप दिया. वहीं आज इसपर काफी कुछ शोध होते होतेकई आनंददायी रूपों में निखर कर सामने आया है. इन प्राचीनतम , आधुनिकतम पाश्चात्य का निचोड़ यह है कि सेक्स पोजीशन को पांच मुख्य भागों में बांटा जा सकता है. इनमें है

  • जब महिला उपर हो
  • जब पुरुष उपर हो
  • खड़े होकर
  • अन्य पोजीशन
  • मुख मैथुन पोजीशन


जब महिला उपर हो
जैसा की नाम से ही स्पष्ट है कि इस पोजीशन में महिला अपने पार्टनर के उपर होती है. विन्यास के अनुसार इसमें रिसीवर () अपने पार्टनर के उपर रह कर आनंद की नाव खेता है. इस पोजीशन में प्रवेश गहराई तक होता है तथा नियंत्रण काफी कुछ हद तक महिला के पास रहता है. इस पोजीशन में महिला रति क्रीड़ा की गति और योनि में लिंग के प्रवेश की गहराई सहित उसके धक्के को नियंत्रित कर सकती है. इसलिये जब महिला तेज सेक्स से डरती हो तथा सेक्स क्रिया के दौरान पुरुष महिला को पावर का प्रयोग करते देखना चाहता है उनके लिये यह पोजीशन काफी बेहतर है.

1. कलाबाज पोजीशन
यह पोजीशन सेक्स के चरम तक जाकर आनंद लेने वालों के लिये है. इस पोजीशन को सहजता से पाने का तरीका यह है कि इसके लिये पुरुष को अपनी पीठ के बल लेट जाने दे. फिर उसके लिंग के उपर योनि को ले जाकर महिला घुटनों तक अपने पैर बिस्तर पर सीधे कर ले फिर घुटनों के उपर जाघों को सीधा करते हुए योनि को धीरे धीरे लिंग में प्रवेश कराएं. इसके पश्चात महिला पुरुष के उपर पीछे की ओर झुकते हुए पीठ के बल लेट जाए. यह पोजीशन कलाबाज पोजीशन कहलाएगी. इस पोजीशन में दाता (पुरुष ) पर स्ट्रोक करने की जिम्मेदारी होती है, लेकिन नियंत्रण महिला का ही होता है.
मूल्यांकन

· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☺
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻☻
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻
------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻☺
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻☻☺
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☺
-------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻☻☺
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☺

उन्नयन
तकियाः
इस पोजीशन में ज्यादा आनंद के लिये उसके पीछे तकिया रखा जा सकता है.
हाथों का प्रयोगः इसके तहत महिला को ज्यादा आनंद देने के लिये पुरुष उसके सीने के साथ खिलवाड़ कर सकता है

परिवर्तन
एशियन घुड़सवारः इसमें महिला ही मोर्चा संभालती है. यह फुर्तीले और जोशीले लोगों का पसंदीदा आसन है. इसमें महिला पुरुष के उपर उकड़ू होकर अपनी योनि उसके लिंग में प्रवेश कराती है. तथा पुरुष उसके चूतड़ो को अपने हाथों से सहारा देता है.

घुड़सवारः यह तरीका एशियन घुड़सवार पोजीशन से मिलता जुलता है. इसमें प्रवेश व घर्षण की तीव्रता काफी तेज रहती है. इसमें महिला अपनी टांगे बिस्तर पर फैला कर घुटनो के बल पुरुष के लिंग के उपर बैठती है. उपर नीचे होने में सहायता के लिये पुरुष अपने हाथों से उसके कमर के पास से सहारा देता है.

उल्टा पीछे से प्रवेशः यह तरीका कलाबाज से मिलता हूआ है. इसमें कलाबाज पोजीशन में थोड़ा बदलाव करते हुए महिला को अपने पांव खोल कर सीधे कर लेने हैं तो पुरुष को घुटनों से अपने पांव उपर उठा लेना है. यह तरीका पुरुष को महिला के अंगों को सहलाने का पूरा मौका देता है. इस तरीके में महिला के पास पूरी कमान नहीं होती है क्योंकि वह अपना भार स्थिर रखने की वजह से नियंत्रण से पकड़ कमजोर हो जाती है. इसमें घर्षण और हरकत की पूरी जिम्मेदारी पुरुष पर होती है.

चेहरे पर सवारीः काउगर्ल पोजीशन के सारे आनंद और नियंत्रण की शुरुआत इसी पोजीशन से शुरु होती है. यह मूलतः मुख मैथुन की पोजीशन है. इसमें पुरुष पीठ के बल सीधा लेटा जाता है और महिला घुटनों के बल अपना भग क्षेत्र पुरुष के चेहरे के उपर ले जाती है. यह काफी पसंद इसलिये की जाती है क्योंकि इसमें नियंत्रण महिला के हाथ में होता है तथा वह आगे पीछे होकर अपना फोकस बदल सकती है. ज्यादा दबाव के लिये थोड़ा नीचे आकर उत्तेजना वृध्दि का आनंद उठा सकती है.
रोडियोः यह घुड़सवार पोजीशन का उल्टा तरीका है. इसमें पुरुष महिला की पीठ का हिस्सा देख सकता है साथ ही महिला के स्तन आदि तक उसे पहुंचने में कठिनाई होती है. जिन्हें घुड़सवार पोजीशन में फिसलने में परेशानी हो उनके लिये जी-स्पाट घर्षण की यह सही पोजीशन है. वैसे भी इसमें जी-स्पाट को काफी तरीके से रगड़ा जा सकता है साथ ही इसमें पुरुष को प्रवेश का काफी हिस्सा मिलता है. इसमें पुरुष पीठ के बल लेट जाता है और महिला उसके चेहरे की ओर पीठ करके उसके लिंग के उपर घुटनों के बल आकर प्रवेश कराती है. तथा अपने शरीर को सहारा पुरुष के पांवों में हाथ टिकाकर देती है. इसलिये इस तरीके में तेज और आसान सेक्स होता है.


2. अमेजॉन पोजीशन
यह पोजीशन कमजोर लोगों के लिये नहीं है, इस पोजीशन में कठोर महिला ही उपर होती है. यह प्रवेश का आसान तरीका भी नहीं है. यह पोजीशन महिला को नियंत्रण का इन्द्रियबोध और पावर प्रदान करती है, जो कि ज्यादातर पोजीशनों में नहीं पाई जाती है. इस पोजीशन में महिला अपने पार्टनर को विहंगम रूप से देख सकती है तो इस पोजीशन में खुद उसके स्तन व आसपास के क्षेत्र एक नए कोण से एक्सपोज होते है जो उत्तेजना की वृद्धि में सहायक होती है. इसमें पुरुष पीठ के बल लेट कर अपने पांव उपर उठा कर घुटनों से मोड़ लेता है. इसके पश्चात महिला पुरुष के कूल्हों के सहारे अपने कूल्हे को टिकाते हुए अपनी योनि को उसके लिंग में प्रवेश कराती है. इस दौरान पुरुष अपने पैरों से उसे कांख के पास से सहारा देता है तो महिला स्वयं अपने हाथों से पांवों को पकड़ कर बैलेंस बनाते हुए स्वयं का सहारा लेती है.

मूल्यांकन

· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻☻☺
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻☻
-------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻☻ ☺
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻
-------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻ ☺
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻ ☺

उन्नयन
तकियाः इस पोजीशन को ज्यादा मजेदार व आनंददायी बनाने के लिये पुरुष अपने नीचे तकिया लगा सकता है.

परिवर्तन

-एशियन घुड़सवार
-घुड़सवार
-रोडियो


3. हत्थाकुर्सी पोजीशन
यह काफी सृजनात्मक पोजीशन है. यह पोजीशन काफी आनंद भरी होती है जब यह अपनी लय से नीचे आती है. इस पोजीशन को पाने के लिये पुरुष अपने पांव सीधे फैला कर हाथ के सहारे बैठ जाता है. इसके पश्चात महिला उसके लिंग के उपर अपनी योनि ले जाकर अपने पांव उसके कंधे पर रखती है. इसके बाद महिला अपने कंधे की सीध में अपने हाथ ले जाकर हाथों के सहारे अपने कूल्हे को गति प्रदान कर रति क्रीड़ा करती है. हालांकि कुछ समय के लिये इस पोजीशन में महिला को कुछ अतिरिक्त जोर झेलना पड़ता है. लेकिन अभ्यास के बाद यह पोजीशन काफी आनंददायी हो जाती है.

मूल्यांकन

· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻☻☻☻
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻
------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☺
------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻ ☺
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻ ☺
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☻

उन्नयन

तकियाः इसमें ज्यादा आनंद और आराम के लिये पुरुष चाहे तो अपने पीछे तकिया रख सकता है.
हाथः इसमें पुरुष तकिया या फिर किसी अन्य सहारे के टिके होने के बाद पार्टनर को ज्यादा आनंद देने के लिये उसके पीछ हाथ फेर सकता है, कूल्हों के उपर थपथपाते हुए चपत लगा सकता हैया फिर गति के दौरान हाथों से कूल्हों को सहारा दे सकता है. इससे महिला कम ताकत लगा कर भी और तेजी से धक्के लगा सकती है. .

परिवर्तन

-घुड़सवार

-झूला
यह हत्थाकुर्सी से मिलती जुलती पोजीशन है इसमें पुरुष अपने पैरों को घुटनों के पास से थोड़ा उपर उठा लेता है और उसके हाथ महिला को कूल्हों के पास से सहारा देने का काम करते हैं तथा महिला अपने दोनों पैर उसकी कमर से सटाते हुए सीधे फैला लेती है तथा योनि को लिंग में प्रवेश कराने के बाद अपने हाथ उसके कंधे पर रख सहारा लेती है. इसमें महिला पुरुष काफी निकट रहते हैं इससे यह काफी निकटता प्रदान करती है.

बैठा सांड़
इसमें पुरुष बिस्तर में अपने पांव सीधे करके बाहर की ओर फैलादेता है. महिला पुरुष के सामने पीठ के बल लेट जाती है और अपने पैर पुरुष के कंधों में रख देती है. इस अवस्था में उसकी योनि ठीक पुरुष के लिंग के सामने आ जाती है. रति क्रीड़ा के दौरान पुरुष महिला की जांघो के पास पकड़ कर धक्कों की गति को नियंत्रित (कम-ज्यादा) कर सकता है.

4. घुड़सवार पोजीशन
जैसा की नाम से ही स्पष्ट है इसमें महिला ऐसा व्यवहार करती है मानों वह घुड़सवारी कर रही है. जिस तरह घुड़सवारी के दौरान घुड़सवार घोड़े के झटके से उपर नीचे उछलता है ठीक कुछ ऐसी ही स्थिति रतिक्रीड़ा के दौरान महिला बनाती है. यह किसी महिला की सबसे पसंदीदा पोजीशनों में से एक है. साथ ही यह उन महिलाओं की भी पसंद है जिसमें शुरुआत करने का अधिकार वे अपना मानती है और पुरुष उनको ऐसा करते देखना पसंद करते हैं. इसमें पुरुष अपनी पीठ केबल लेट जाता है. इस दौरान चाहे तो वह तकिये के सहारे कंधा /सिर का हिस्सा उठा सकता है. अब महिला उसके चेहरे की ओर अपना चेहरा करके बैठ जाए . इस दौरान पुरुष का शरीर महिला की दोनों टांगों के बीच होगा तथा महिला की योनि पुरुष के लिंग के उपर या सामने होगी. इसके पश्चात घुड़सवार पोजीशन दो तरीकों में बंट जाती है.
पहले तरीके में महिला अपने चेहरे को पुरुष के चेहरे के काफी करीब ले जाती है. इससे उसे चूमने का अवसर मिलता है. इस दौरान वह अपने हाथ पुरुष के कंधे के बगल से टिका कर सहारे के रुप में प्रयोग करती हैतथा इसमें उसके पांव बिस्तर के समानान्तर होते है.
दूसरे तरीके में महिला अपने हाथ पीछे की ओर करके अपने को पीछे की ओर झुका लेती है. इस तरीके में पुरुष को योनि में लिंग प्रवेश का पूरा दृश्य दिखाई देता है जो उसे तीव्र उत्तेजना में सहायक होता है.

मूल्यांकन


· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· महिला (Receiver) को परेशानी
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻ ☺
--------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻☻☻
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻
--------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☻

उन्नयन

तकियाः इसमें ज्यादा आनंद के लिये पुरुष चाहे तो कमर के नीचे तकिया रख सकता है.

परिवर्तन

-एशियन घुड़सवार
-चेहरे पर सवारी
-रोडियो



5. एशियन घुड़सवार पोजीशन
यह घुड़सवार पोजीशन से लगभग मिलती जुलती पोजीशन है . महज थोड़े से अंतर से यह घुड़सवार पोजीशन से थोड़ी अलग हो जाती है. इसमें महिला को पुरुष द्वारा कुछ ज्यादा सपोर्ट मिल जाता है. घुड़सवार पोजीशन में बिस्तर के समानान्तर फैले पांवों पर घुटनों के बल रतिक्रीड़ा थोड़ी स्थिर सी लगती है लेकिन जवां और फुर्तीले लोगों के लिये इसमें थोड़ा परिवर्तन कर एशियन घुड़सवार पोजीशन बनी है. इसमें महिला अपने पांव बिस्तर के लंबवत कर लेती है और घुटनो से मोड़ कर सीधे योनि को लिंग के उपर ले आती है. इस पोजीशन को पाने के लिये पुरुष पीठ के बल सीधे लेट जाए और महिला उसके कूल्हों से अपने पांव सटा कर खड़ी हो जाए फिर घुटनों से पांव मोड़ते हुए बैठने की कोशिश करें अंततः एशियन घुड़सवार पोजीशन बन जाएगी. हालांकि इस पोजीशन में महिला को रति क्रीड़ा में मेहनत ज्यादा लगती है लेकिन पुरुष महिला को कूल्हों पर हाथ से सहारा देकर इस पोजीशन को शानदार बना सकता है.

मूल्यांकन


· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻☻☻☻ ☺
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻
--------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻ ☺
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻ ☺
--------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻ ☺
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻ ☺
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☻☻

उन्नयन

तकियाः इसमें ज्यादा आनंद के लिये पुरुष चाहे तो कमर के नीचे तकिया रख सकता है.
हाथः इसमें पुरुष रति क्रीड़ा को ज्यादा आनंददायी और आरामदायक बनाने के लिये अपने हाथों से महिला के कूल्हों को सहारा दे सकता है.

परिवर्तन


-घुड़सवार
-चेहरे पर सवारी
-रोडियो


6. मिश्रित पोजीशन
यह हत्था कुर्सी पोजीशन के बेहतरीन फेरबदल का नतीजा है. यह तरीका प्रवेश के बाद शानदार घर्षण का अवसर उपलब्ध कराता है, जो आनंद में गुणात्मक वृद्धि कराता है. इस पोजीशन को पाने के लिये पुरुष अपने हाथों के सहारे पैर फैला कर बैठ जाए. फिर महिला भी उसी तरह पैर फैलाते हुए हाथ के सहारे थोड़ा पीछे झुकते हुए अपनी योनि को पुरुष के लिंग के ऊपर ले जाए. इस दौरान उसके पांव घुटनों के पास से थोड़ा मुड़े होते है. जो उसे उपर-नीचे होने के लिये सहायता प्रदान करते हैं. हालांकि इस पोजीशन में महिला के हाथों पर थोड़ा जोड़ पड़ने पर थकान का अनुभव करते है रतिक्रीड़ा की गति को प्रभावित करते हैं. लेकिन यह सेक्स पोजीशन तब विस्फोटक और परमानंददायी होती है जब महिला कठोर व मजबूत मसल्स पावर वाली होती है.

मूल्यांकन

· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻ ☺
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻ ☺
-----------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻☻☻
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻


-----------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻


· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻

परिवर्तन

-हत्था कुर्सी
-एशियन घुड़सवार
-घुड़सवार
-रोडियो
-बैठा सांड़



7. शाही पोजीशन
इस पोजीशन मे महिला पुरुष का चेहरे से बेहतर संपर्क रहता है. इस पोजीशन में दोनों के बीच काफी निकटता रहती है और यह पोजीशन उन जोड़ो के लिये बेहतर है जो रतिक्रीड़ा के दौरान एक दूसरे को चुंबन करने में ज्यादा रुचि रखते हैं. इस पोजीशन के लिये पुरुष किसी पलंग या उस जैसे किसी अन्य जगह पर पांव नीचे करके बैठ जाता है. फिर महिला उसके चेहरे की ओर अपना चेहरा करते हूए उसके लिंग के उपर या सामने अपने योनि को ले जाते हुए अपनी टांगे सामने फैला देती है. साथ ही महिला के हाथ पुरुष के शरीर से सहारा लेने के काम आते है. इस पोजीशन में रतिक्रीड़ा के दौरान पुरुष चाहे तो अपने हाथ पीछे कर सहारे के रुप में प्रयुक्त कर सकता है वहीं दूसरी ओर हाथों को महिला के कूल्हों या कमर के पास से सहारा देकर धक्कों में मदद के साथ गति भी बढ़ा सकता है. बदकिस्मती से चित्र में दिखाई गई पोजीशन धक्कों के हिसाब से उतनी बेहतर नहीं कही जा सकती (जितनी रेटिंग में दिखाई गई है) . पोजीशन के संपूर्ण आनंद के लिये स्टूल या चेयर का प्रयोग करें इसमेंमहिला को पांव के सहारे के ज्यादा सही अवसर होते हैं. इसके अलावा भी इसमें अपने हिसाब से बैठने की व्यवस्था बनाकर पोजीशन को ज्यादा आनंददायी बनाया जा सकता है.

मूल्यांकन


· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻ ☺
· महिला (Receiver) को परेशानी
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻☺
-----------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻☺
-----------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻☻☻
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻ ☺
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☻☻

उन्नयन



हाथः चूंकि इस पोजीशन में दोनों के हाथ लगभग खाली होते है तो वे एक दूसरे के उत्तेजक अंगों को सहलाकर उत्तेजना का संचार बढ़ा सकते हैं.

परिवर्तन

तितलीःसमें महिला पलंग /सोफा/टेबल/काउंटर या इस जैसी किसी भी चीज के किनारे पीठ के बल लेट कर अपनी टांगे उपर की उठाकर पुरुष के कंधे पर टिका दे और पुरुष स्थिति अनुसार घुटनों के बल या खड़े होकर रतिक्रीड़ा को अंजाम दे.

-घुड़सवार

हर्षितः
यह भी तितली पोजीशन से मिलती जुलती पोजीशन है. इसमें महिला किसी पलंग या इस जैसी किसी अन्य के किनारे पर अपनी टांगे फैलाते हुए बैठ जाए और पुरुष तितली पोजीशन की ही तरह व्यवहार करते हए रतिक्रीड़ा प्रारंभ कर सकता है.


8. उल्टीशाही पोजीशन
यह पोजीशन शाही पोजीशन की ही तरह है बस इसमें महिला अपनी चेहरा पुरुष के चेहरे के दूसरी ओर कर लेती है. एक तरह से यह पीछे से प्रवेश की भी पोजीशन है. इसमें पुरुष की स्थिति ठीक शाही पोजीशन की ही तरह रहती है लेकिन महिला पुरुष की ओर पीठ करके ठीक उसके लिंग के सामने अपनी योनि को लाकर खड़ी होती है. फिर धीरे से योनि को लिंग में प्रवेश कराती है. इस पोजीशन में महिला काफी आरामदायक स्थिति में रहती है. इसमें उसे सहारा उसके पैरों से मिलता है जिससे उसे धक्के लगाने में भी आसानी होती है. यह पोजीशन आश्चर्यजनक रूप से परिवर्तनशील है इसलिये इसे कुछ अन्य आइडिया के साथ दूसरे फर्नीचर पर भी अपनाई जा सकती है.

मूल्यांकन


· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻ ☺
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻ ☺
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻ ☺
-------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻ ☺
-------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻☻
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻ ☺
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☻☻

उन्नयन
हाथः इस पोजीशन मेंपुरुष अपने हाथों से महिला के उत्तेजक अंगों को सहला सकता है.

परिवर्तन



अंगरक्षकः इस पोजीशन में महिला पहले सीधी खड़ी होती है फिर कमर के पास से थोड़ा सा आगे की ओर झुके जिससे कूल्हे थोड़ा बाहर की ओर निकल आएंगे फिर अपने घुटनों को मोड़ते हुए थोड़ा नीचे झुकती है और इस दौरान वह अपने नितंबों को बाहर की ओर निकालती है इससे योनि का हिस्सा दिखने लगता है. तत्पश्चात पुरुष पीछे से प्रवेश की प्रक्रिया करता है. इस पोजीशन में रतिक्रीड़ा के दौरान पुरुष चाहे तो महिला के हाथ पकड़ कर या फिर महिला की कमर पकड़ कर धक्के की गति बढ़ा सकता है.

श्वान: इस पोजीशन में महिला को कुछ -कुछ श्वान की सी स्थिति में आना पड़ता है. इसके लिये महिला पेट के बल सीधी लेट जाए फिर घुटनों को मोड़ते हुए कमर को उठाना शुरु करे फिर चाहे तो सिर की ओर कोहनी से शरीर को सहारा दे या फिर स्तनों के पास से या पूरे हाथ से . तत्पश्चात पुरुष अपने घुटनों के बल बैठ कर या फिर सुविधानुसार खड़े होकर अपना लिंग महिला की योनि में प्रवेश करा सकता है.

- रोडियो


9. उल्टी मिशनरी पोजीशन
यह पोजीशन वास्तव में सबसे आरामदायक और सरल पोजीशन मानी जाती है. इस पोजीशन को पाने के लिये पुरुष पीठ के बल लेट जाता है और महिला उसके उपर लेट कर प्रवेश कराती है. इस पोजीशन में महिला का उपरी हिस्सा मसलन गाल, गला, स्तन चुंबन के लिये पर्याप्त अवसर प्रदान करते है.

मूल्यांकन
· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻ ☺
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻☻
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻
-------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻
-------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻☻☻
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻ ☺
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻ ☺

परिवर्तन

- एशियन काउगर्ल
- काउगर्ल
- रायिडंग द फेस
- रोडियो



10. उल्टा पीछे से प्रवेश
कलाबाज पोजीशन में परिवर्तन लाने से बनी यह पीछे से प्रवेश की उल्टी पोजीशन निकटता को लेकर सर्वाधिक पसंद की जाने वाली पोजीशन है. इस पोजीशन में जी स्पॉट उत्तेजना के लिये बेहतरीन एंगल मिलता है जिससे की एक शानदार प्रवेश का अवसर मिलता है साथ ही इस दौरान महिला के स्तनों से खेलने का भी पर्याप्त अवसर पुरुष के पास होता है. इस पोजीशन को पाने के लिये पुरुष पीठ के बल लेट जाता है और महिला अपनी योनि उसके लिंग में प्रवेश कराते हुए उसके चेहरे की ओर पीठ करके बैठ जाती है . फिर सामने की ओर टांगे फैलाते हुए पीठ के बल पुरुष के उपर लेट जाती है . इस स्थिति में महिला इस स्थिति में नहीं होती कि वह धक्कों का दारोमदार अपने उपर ले इस लिये धक्के लगाने का काम इस पोजीशन में पुरुष के जिम्मे होता है.

मूल्यांकन

· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻☺
· महिला (Receiver) को परेशानी
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻☺
--------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻☻☻ ☺
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻
--------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻☻☻
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☺

उन्नयन

हाथः इसमें महिला के शरीर पर अभिगमन के काफी अवसर होते हैं पुरुष चाहे तो हाथो के प्रयोग से शरीर पर उत्तेजना फैला सकता है.
तकियाः पुरुष चाहे तो अपनी पीठ या कमर के नीचे तकिया लगा कर उठाव ले सकता है.

परिवर्तन


-एशियन घुड़सवार
-घुड़सवार
-चेहरे पर सवारी
-रोडियो


11. रोडियो पोजीशन
यदि आप और आपका पार्टनर घुड़सवार पोजीशन में फिसलने की समस्या से परेशान है तो यह पोजीशन काफी लाभदायक रहेगी. इस पोजीशन में अधिकतम भगशिश्न उत्तेजना मिलती है इसलिये चरमोत्कर्ष का आनंद काफी बढ़ जाता है. यह पूरी तरह घुड़सवार पोजीशन है बस इसमें महिला का चेहरा पुरुष के विपरीत होता है . इसमें पुरुष महिला के उत्तेजक अंगों से नहीं खेल सकता है. लेकिन महिला के कूल्हों को उपर नीचे होते देखने का तथा रतिक्रीड़ा में जुटे अंगों का विस्तृत दृश्य देखने को मिलता है.



मूल्यांकन


· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻ ☺
· महिला (Receiver) को परेशानी
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☻
-------------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☻
-------------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻ ☺
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻☻☻ ☺

परिवर्तन

-एशियन घुड़सवार
-घुड़सवार
-चेहरे पर सवारी


12. झूला पोजीशन
यह काफी दृढ़ संसर्ग वाली पोजीशन है . यह पोजीशन महिला पुरुष को संसर्ग के दौरान काफी निकट ले आती है. इस पोजीशन में पुरुष अपनी टांगे फैला कर बैठ जाता है. फिर महिला उसके कंधो से हाथों के सहारे उसके लिंग के सामने अपनी योनि लाकर प्रवेश कराती है और अपनी टांगे पीछे की और सीधे ले जाती है. इसमें पुरुष के कंधे के सहारे महिला ही धक्के की जिम्मेदारी निभाती है. हालांकि इस पोजीशन में धक्के की गति काफी धीमी होती है. लेकिन बगैर प्रयास के इसे कम न आंकें.
मूल्यांकन


· महिला (Receiver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· महिला (Receiver) को परेशानी ☻☻☺
· महिला (Receiver) को आनंद ☻☻☻☺
-----------------------------------------------
· पुरुष (Giver) को सहूलियत ☻☻☻☻
· पुरुष (Giver) को परेशानी ☻☻☺
· पुरुष (Giver) को आनंद ☻☻☻☺
-----------------------------------------------
· अंतरंगता (Intimacy) ☻☻☻☻
· प्रवेश की गहराई ☻☻☻☻
· प्रवेश की गतिशीलता ☻☻

परिवर्तन
- हत्था कुर्सी
- घुड़सवार
- बैठा सांड़

5 comments:

suhas said...

प्रिय रमा ,
अभी पढा नही और कमेन्ट लिख रहा हूं । आउट लाइन देख कर अनुमान कर सकता हूं कि प्रयास पूरी तरह कामयाब है।
सेक्स के बारे में मौलिक चिन्तन और उसे शब्दों मे परिवर्तित कर देना वात्स्यायन की परम्परा को आगे ले चलने का स्तुत्य कार्य है।
बधाई
हिन्दी में लिख रहा हुं ,कैसा है ?
शेष पूरा पढ कर लिखूंगा।
सुहास

Anonymous said...

आदरणीय रमा जी,

वर्षों से इंटरनेट का प्रयोग "काम" को सही ढंग से समझने हेतु संबंधित लेख, चित्रादि को देखने में कर रहा था। आप विश्‍वास नहीं करेंगे, मैं कहना चाहूँगा इतना विस्‍तृत ज्ञान हिन्‍दी भाषा में कभी प्राप्‍त नहीं कर सका था, वह भी चित्रों सहित। यूँ तो अंग्रेजी में हमारे ही भारतवर्ष का कामसूत्र इंटरनेट पर सहज उपलब्‍ध है, परन्‍तु आपने हिंदी भाषा में इसे संयोजित कर प्रशंसनीय कार्य किया है। मैं अपने ऐसे मित्रों को, जिनका विवाह होने वाला होगा, उपहार स्‍वरुप आपके चिटृठे की लिंक लिखकर अवश्‍य ही दूँगा, ताकि वे इंटरनेट पर उपलब्‍ध अन्‍य अधूरे ज्ञान से अपना जीवन बर्बाद न कर सकें, और "काम" का असली आनंद प्राप्‍त कर सकें।

पुन: धन्‍यवाद सहित,
एक संतुष्‍ट पाठक

SULEMAN said...

सेक्स करणे के बाद मेरा सर क्योँ बहुत दर्द करता है

Fahmida Laboni Shorna said...

Desi Aunty Group Sex With Many Young Boys.Mallu Indian Aunty Group Anal Fuck Sucking Big Penis Movie.


Sunny Leone Sex Video.Sunny Leone First Time Anal Sex Porn Movie.Sunny Leone Sucking Five Big Black Dick.


Kolkata Bengali Girls Sex Scandals Porn Video.Bengali Muslim Girl Sex Scandals And 58 Sex Pictures Download.


Beautiful Pakistani Girls Naked Big Boobs Pictures.Pakistani Girls Shaved Pussy Show And Big Ass Pictures.


Arabian Beautiful Women Secret Sex Pictures.Cute Arabian College Girl Fuck In Jungle.Arabian Porn Movie.


Nepali Busty Bhabhi Exposing Hairy Pussy.Nepali Women Sex Pictures.Sexy Hot Nepali Hindu Baby Cropped Public Sex


Russian Cute Girl Sex In Beach.Swimming Pool Sex Pictures.Cute Teen Russian Girl Fuck In Swimming Pool.


Reshma Bhabhi Showing Big Juicy Boobs.Local Sexy Reshma Bhabhi Sex With Foreigner For Money.


Pakistani Actress Vena Malik Nude Pictures. Vena Malik Give Hot Blowjob With Her Indian Boyfriend.


3gp Mobile Porn Movie.Lahore Sexy Girl Fuck In Cyber Cafe.Pakistani Fuck Video.Indian Sex Movie Real Porn Video.


Katrina Kaif Totally Nude Pictures.Katrina Kaif Sex Video.Katrina Kaif Porn Video With Salman Khan.Bollywood Sex Fuck Video

Hindi Golpo said...


आग लगाने वाली चुदाई कहानियां

चुदाई की कहानियां

मजेदार सेक्सी कहानियां

Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

सेक्स कहानियाँ

हिन्दी सेक्सी कहानीयां