Saturday, May 05, 2007

उसके कामोत्तेजक अंग


पुरुष के सर से पांव तक के सभी अंग उसे उत्तेजना का सामान बना सकते हैं. बस यह जानने की जरूरत है कि उसके उन अंगों को छूने का सही तरीका क्या है.

खोपड़ी
पुरुष की खोपड़ी भी एक कामोत्तेजक क्षेत्र हो सकती है. इस क्षेत्र में हल्के हाथों से मसाज करने पर उसे एक सनसनाहट का एहसास होता है. इसके पश्चात फव्वारों के बीच उसे बालों को धो दे.

कान
फुसफुसाते हुए अपनी कल्पना को साकार होते हुए देखे जब आप उसके कानों को हौले से कुतरते हुए एक आग पैदा कर रहीं हों. ध्यान रखें की हल्के से दांत गड़ाएं साथ ही कान के चारों ओर ओंठों से दबाते हुए चूसे तथा बीच में फूंक मारकर एक अलग सा अहसास पैदा करें. लेकिन इस दौरान जीभ से धक्का तब तक न दें जब तक कि आप यह निश्चित न कर लें कि यह उसे पसंद है .

ओंठ
हर पुरुष चूमना पसंद करता है. अपनी जीभ उसके निचले ओंठ पर फिराएं. इसके साथ ही उसपर चूमना शुऱू करते हुए उसके ओंठों को अपने ओंठों मे भरने का प्रयास करें इस दौरान उससे चिपकते हुए उसके नितम्बों को ग्रिप में लें, इसके साथ ही अपने नाभि क्षेत्र को उससे रगड़ते भी जाएं जो उसे एक सुखद अहसास दिलाएगा.

गला
प्यार भरी चुभन (दांत से काटना) को लेकर अपना सीमा क्षेत्र न बनाएं और वहीं के होकर न रह जाएं. अपने ओंठ और जीभ उसकी गर्दन पर फिराते हुए उसे बहकाएं.

कंधे
उसे कंधों पर दबाव देते हुए सहलाएं इससे उससे आराम की अनुभूति होगी. फिर अपने बालों से उसके कंधों पर ब्रश करें जो उसमें सनसनी भरेगा फिर उसके कंधों पर गहरे चुंबन दें.

उंगलियां
उंगलियां भी उत्तेजना का एक महत्वपूर्ण अंग बन सकती हैं. उसकी उंगलियों को ठीक उसी तरह चूसे जैसे मुख मैथुन कर रहीं हों. इस दौरान उसकी आंखों में देखते हुए उसे यह अहसास कराएं कि आप ऐसी महिला है जो उस चीज को चूसने पर वास्तव में आनंद का अनुभव करती है.

सीना
यह महिलाओं के निप्पल की तरह संवेदनशील नहीं है लेकिन उससे कम भी नहीं है. कई पुरुष अपने निप्पल को चुटकी काटना और खींचना पसंद करते है. इसलिये यहां दबाव देकर देखें उसे क्या पसंद है साथ ही उसके सीने में रुकने को नजरअंदाज न करें. यहां निश्चित समय देना जरूरी है. इस दौरान उसके सीने में अंगुलियां फिरा कर उसमें उत्तेजना भरने का प्रयास करें यदि सीने में बाल हैं तो उनमें उंगलियों की सहायता कंघी करने का उपक्रम करें इससे उसमें उत्तेजना का संचार होगा.

पीठ
कुछ पुरुष यहां मसाज करना पसंद नहीं करते हैं लेकिन कई लोग इसे उत्तेजक मानते हैं. यहां अपने हाथ फिराएं, थपथपाएं तथा गूंथने का उपक्रम करें . इस दौरान चिकने द्रव्य या टेलकम पावडर का भी प्रयोग करके इस खेल को और रोमांचक व सनसनी युक्त बना सकते हैं. इस दौरान उसके कूल्हों पर उंगलियों से गड्ढे बनाना काफी उत्तेजक होता है.

कूल्हे

कूल्हों पर केन्द्रित होकर समय का दबाव यहां खर्च कर सकते हैं. ज्यादातर पुरुष यहां हाथों से टटोलना पसंद करते हैं तथा यहां मसाज के साथ ग्रिप में लेकर दबाव देना भी उनमें उत्तेजना भरता है. इस समय उनके कूल्हों को उंगलियों में दबाते हुए खींचना अच्छा लगता है तो कुछ को हाथ फिराते हुए नाखूनों का हल्का दबाव भी उत्तेजित करता है.

लिंग
लिंग पुरुष का सबसे संवेदनशील अंग होता है. इसका अग्र सिरा तो सबसे ज्यादा उत्तेजक होता है. अपनी हथेलियों को इसपर फिराते हुए उसे उत्तेजित कर सकती हैं या फिर आपको और उसे पसंद हो तो चूस कर भी उत्तेजित किया जा सकता है. कुल मिला कर लिंग ही उत्तेजना का पूरा सामान है इसे आप अपनी और उसकी पसंद के हिसाब से जैसा चाहे वैसा करते हुए सनसनाहट का ज्वार पैदा कर सकती हैं. लिंग का हर हिस्सा उत्तेजना की नसों से भरा होता है जो छूने मात्र से कामोद्दीप हो जाता है.
इसके नीचे झूलती दो थैलियां भी संवेदना का पर्याय बन सकती है. अण्डकोश को हल्के से हथेलियों में लेकर सहलाया जा सकता है साथ ही जीभ से चाटकर यहां से सनसनाहट भरी जा सकती है.

उत्सर्गांतराल (Perineum)
यह क्षेत्र लिंग और गुदा के बीच का क्षेत्र होता है. कई पुरुष इस हिस्से पर दबाव देना पसंद करते हैं जब उनके साथ मुख मैथुन किया जा रहा हो या फिर उन्हें उन्हें उत्तेजित किया जा रहा हो.

गुदा और प्रोस्टेट
हालांकि यह कम प्रचलित हिस्सा है लेकिन भारत के बाहर और पश्चिमी सभ्यता वाले देशों में यह काफी पसंद किया जाने लगा है. कुछ पुरुष गुदा की सहलाहट से उत्तेजना महसूस करते हैं. वहीं पुरुष जी - स्पॉट के नाम से जाना जाने वाला हिस्सा प्रोस्टेट भी उत्तेजना का सबब बन सकता है. इसके लिये स्निग्ध द्रव्य से डूबी उंगली उसकी गुदा में हौले-हौले प्रवेश कराएं . प्रोस्टेट अखरोट के आकार की ग्रंथि होती है. जो गुदा के कुछ इंच अंदर सामने की दीवार की ओर पाई जाती है. उंगली अंदर डालने के बाद लिंग की ओर दबाव डालने पर यह हिस्सा सहजता से मिल जाता है. इसपर डाला गया दबाव पुरुष को उत्तेजित करता है.

जांघे
पुरुष की जांघें भी काफी संवेदनशील होती है. इसके लिये उसके पैर से जांघों की ओर आएं . यहां उसकी जांघों को सहलाएं साथ ही हल्के से थपथपाएं हुए दांतों का हल्का सा दबाव भी डाल सकती हैं. लेकिन जिन्हे गुदगुदी लगती हो उनके लिये इस उत्तेजना से बचना चाहिए.

घुटने
घुटनों के पिछले हिस्से पर चूमना और थपथपाना भी उत्तेजना पैदा करता है.

पांव व अंगूठा
पांव पर रगड़ देना उसे यह बताता है कि आप उसे कितना प्यार करते है. सेक्स विज्ञानियों का मत है कि पांव के तलवे व अंगूठे से शरीर के कई हिस्सों का संबंध होता है. इसलिए यहां सहलाने का असर शरीर में कहीं और भी उत्तेजना भर सकता है. कुछ लोगों का मानना अंगूठा उत्तेजना का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है.